कन्या राशिफल २०२१

कन्या राशिफल २०२१

गोचरीय स्थिति :

वर्ष २०२१ में शनि का गोचर अपने स्व राशि मकर अर्थात आपके पञ्चम भाव में पूरे वर्ष रहेगा जहाँ से शनि की दृष्टि सप्तम भाव, एकादश भाव एवं द्वितीय भाव पर होगी |

बृहस्पति  का भी गोचर ६ अप्रैल २०२१ तक मकर राशि में शनि के साथ रहेगा, बृहस्पति ६ अप्रैल २०२१ से कुम्भ राशि अर्थात एकादश भाव में गोचर करेगा, वर्ष के मध्य में २० जून २०२१ से कुल १२० दिन के लिए बृहस्पति वक्री हो जाएगा, इसी वक्रकाल में १४ सितम्बर २०२१ को बृहस्पति वक्री अवस्था में रहते हुए अपनी पूर्ववत राशि मकर में प्रवेश करेगा, यहाँ से १८ अक्टूबर २०२१ को बृहस्पति मार्गी होकर मकर राशि में भ्रमण करता हुआ २१ नवम्बर २०२१ को कुम्भ राशि में पुनः प्रवेश करेगा |

जब बृहस्पति मकर राशि में भ्रमण करेगा तब उसकी दृष्टि नवम भाव, एकादश भाव एवं लग्न पर पड़ेगी और जब कुम्भ राशि में भ्रमण करेगा तब उसकी दृष्टि दशम भाव, द्वादश भाव एवं द्वितीय भाव पर पड़ेगी |

राहू पुरे वर्ष वृष राशि अर्थात नवम भाव में गोचर करेगा और केतु वृश्चिक राशि अर्थात तृतीय भाव में गोचर करेगा |            

 

कन्या राशि का सामान्य फल :

यह वर्ष आपके लिए थोड़ा अनुकूल नहीं रहेगा, इस वर्ष आपको सावधानीपूर्वक रहना होगा | यदि आप अविवाहित हैं तो विवाह होने में थोड़ा विलम्ब हो सकता है और यदि आप विवाहित हैं तो आपको अपने पति या पत्नी के स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा, किसी भी प्रकार के विवाद से आपको बचना चाहिए | किसी पैतृक सम्पत्ति का विवाद चल रहा हो तो उसका न्यायपूर्ण समाधान मिलने की सम्भावना है | मित्रों से थोड़ा वैचारिक मतभेद हो सकता है,इस वर्ष समाज में आपकी प्रतिष्ठा बरकरार रहेगी | यदि आपके सन्तान है तो सन्तान की उन्नत्ति हो सकती है | इस वर्ष आपको किसी बड़े निवेश से बचना चाहिए | इस वर्ष आपको मानसिक रूप से मजबूत होने की आवश्यकता है |      

 

कन्या राशि का व्यवसाय :

इस वर्ष आपके व्यवसाय में थोड़ा उतार चढ़ाव बना रहेगा | इस वर्ष आपको अपने व्यवसाय से सम्बंधित योजनाओं को सावधानीपूर्वक लागू करना होगा और योजना से सम्बन्धित तथ्यों पर सूक्ष्मता से ध्यान देना होगा | यदि आप व्यापार करते है तो लेनदेन का विशेष ध्यान रखें ख़ास कर उधार देने में क्योंकि इस वर्ष उधार की वापसी होने में विलम्ब होने की सम्भावना है | यदि आप नौकरीपेशा है तो अपने कार्य स्थल पर सभी से मधुर व्यवहार रखें क्योंकि आपकी थोड़ी हठधर्मिता से आपका अपने सहकर्मियों से मनमुटाव होने की सम्भावना रहेगी | इस वर्ष आपको अपने द्वारा किये गए परिश्रम का फल प्राप्त होने की सम्भावना है | उच्चाधिकारियों से किसी भी प्रकार का विवाद न करें और अधीनस्थ कर्मचारीयों के हितों का ध्यान रखें जिससे की शनिदेव की कृपा आप पर बनी रहे | 

 

कन्या राशि का स्वास्थ्य :

इस वर्ष आपका स्वास्थ्य सामान्य रहेगा, आपको इस वर्ष के मध्य में स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना होगा | श्वास से सम्बंधित रोग आपको परेशान कर सकती है, आपको अपने दांतों का भी विशेष ध्यान रखना होगा | इस वर्ष आपको समय से दवाओं का सेवन करना चाहिए ताकि कोई भी लघु रोग नियन्त्रण में रहे | पहले से चली आ रहे रोगों का भी ध्यान रखना होगा |

 

कन्या राशि की शिक्षा :

इस वर्ष शनि व बृहस्पति का सम्बन्ध शिक्षा के भाव से होने से विद्यार्थियों को विशेष परिश्रम की आवश्यकता होगी परन्तु उनके द्वारा किये गए परिश्रम का बहुत ही अच्छा प्रतिफल मिलेगा | उच्च शिक्षार्थियों को अपने विषय को समझने में आसानी होगी |यह वर्ष प्रतियोगी परीक्षाओं में भाग लेने वाले प्रतियोगियों के लिए थोडा प्रतिकूल रहेगा अतः एकाग्रता व उच्च मनोबल के साथ परीक्षाओं की तैयारी करना होगा एवं सही योजना बनाकर लगन से अध्ययन करने से ही प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता मिलेगी |

 

कन्या राशि के लिए उपाय :

इस वर्ष यदि आप समय आपने प्रतिकूल महसूस कर रहे हो तो निम्न उपाय करें जिससे आपको काफी राहत मिलेगी-  

  • विघ्नहर्ता भगवान गणपति की आराधना करें |
  • चार मुखी रुद्राक्ष धारण करें |
  • शनिवार को गोधूली बेला में पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं |
Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on print