कुम्भ राशिफल Kumbh Rashifal 2022

kumbh rashifal

कुम्भ राशिफल ( Kumbh Rashifal )2022

कुम्भ राशिफल ( Kumbh Rashifal ) 2022 के लिये गोचरीय स्थिति :

कुम्भ राशिफल ( Kumbh Rashifal )2022 के लिये शनि की स्थिति

  • शनि का गोचर अपने स्व राशि मकर अर्थात द्वादश भाव में वर्ष के प्रारम्भ से रहेगा,
  • शनि 29 अप्रैल 2022 को अपनी मूल त्रिकोण राशि कुम्भ अर्थात लग्न में प्रवेश करेगा,
  • शनि 5 जून 2022 से वक्री हो जायेगा,
  • शनि 12 जुलाई 2022 को वक्री अवस्था में ही अपनी पूर्व राशि मकर में प्रवेश करेगा,
  • शनि 23 अक्टूबर 2022 से मार्गी हो जायेगा,

शनि का नक्षत्र भ्रमण

  • श्रवण नक्षत्र में वर्ष के प्रारम्भ से
  • धनिष्ठा नक्षत्र में 18 फरवरी 2022 से

कुम्भ राशिफल ( Kumbh Rashifal )2022 के लिये बृहस्पति की स्थिति

  • बृहस्पति का गोचर कुम्भ राशि अर्थात लग्न में वर्ष के प्रारम्भ से रहेगा,
  • बृहस्पति 13 अप्रैल 2022 को अपनी स्वराशि मीन अर्थात द्वितीय भाव में प्रवेश करेगा,
  • बृहस्पति 29 जुलाई 2022 से वक्री हो जायेगा,
  • बृहस्पति 24 नवंबर 2022 से मार्गी हो जायेगा,

बृहस्पति का नक्षत्र भ्रमण

  • शतभिषा नक्षत्र में 2 जनवरी 2022 से
  • पूर्व भाद्रपद नक्षत्र में 2 मार्च 2022 से
  • उत्तर भाद्रपद नक्षत्र में 28 अप्रैल 2022 से

कुम्भ राशिफल ( Kumbh Rashifal )2022 के लिये राहु की स्थिति

  • राहु का गोचर वृष राशि अर्थात चतुर्थ भाव में वर्ष के प्रारम्भ से रहेगा,
  • राहु 12 अप्रैल 2022 को मेष राशि अर्थात तृतीय में प्रवेश करेगा,

राहु का नक्षत्र भ्रमण

  • भरणी नक्षत्र में 14 जून 2022 से

कुम्भ राशिफल ( Kumbh Rashifal )2022 के लिये केतु की स्थिति

  • केतु का गोचर वृश्चिक राशि अर्थात दशम भाव में वर्ष के प्रारम्भ से रहेगा,
  • केतु 12 अप्रैल 2022 को तुला राशि अर्थात नवम भाव में प्रवेश करेगा,

केतु  का नक्षत्र भ्रमण

  • विशाखा नक्षत्र में 8 फरवरी 2022 से
  • स्वाति नक्षत्र में 18 अक्टूबर 2022 से

कुम्भ राशिफल ( Kumbh Rashifal ):

कुम्भ राशिफल में ग्रहों की स्थितियों के अनुसार यह वर्ष आपके लिये ठीक रहेगा, इस वर्ष आप शनि की साढ़ेसाती के प्रथम चरण में है, शनि के अपनी राशि मकर में स्थित होने से आपको शनि का शुभ प्रभाव प्राप्त होगा जिससे इस साढ़ेसाती के दौरान संघर्ष और चुनौतियों के मध्य उपलब्धियाँ भी मिलती रहेंगी,

इस वर्ष शनिदेव वर्ष पर्यन्त 29 अप्रैल से 12 जुलाई के अलावा अपनी स्वराशि मकर में स्थित रहेंगे, जहाँ से शनिदेव की दृष्टि द्वितीय; षष्ठम व नवम भाव पर होगी, शनिदेव के द्वितीय भाव पर दृष्टि के प्रभाव से पैतृक सम्पत्ति को लेकर विवाद हो सकता है एवं साथ ही साथ पैतृक संस्कारों का प्रभाव आप पर बढ़ेगा,

इस वर्ष आपके शत्रु आपके विरुद्ध षडयंत्र रच सकते है परन्तु शनि की छठे भाव पर दृष्टि के प्रभाव से आपके शत्रुओं के सारे षड्यंत्र निष्फल होंगे एवं आप इन सभी बातों से सुरक्षित रहेंगे साथ ही साथ आपके समक्ष आपके शत्रु निस्तेज होने को विवश हो जायेंगे, शनिदेव की नवम भाव पर दृष्टि के प्रभाव से आपके अन्दर आध्यात्मिकता का भाव उत्त्पन्न होगा एवं ध्यान या साधना के क्षेत्र में उन्नति की प्राप्ति हो सकती है,

13 अप्रैल के पश्चात स्वराशिस्थ बृहस्पति द्वितीय भाव में गोचर करेगा जहां से बृहस्पति की दृष्टि षष्ठम; अष्टम व दशम भाव पर होगी, यदि आपके ऊपर कोई ऋण है तो बृहस्पति के छठे भाव पर दृष्टि के प्रभाव से उस ऋण की आसानी से अदायगी हो सकती है

बृहस्पति के अष्टम भाव पर प्रभाव से आपको अपने मित्रों के गुप्त बातों की जानकारी मिल सकती है एवं आपकी तरक्की में थोड़ी गति आ सकती है यानि की आप उन्नति की ओर अग्रसर होंगे, आपको इस वर्ष कोई नया कर्ज लेने में थोड़ी सावधानी रखनी होगी,

 

यदि आपका न्यायालय में कोई वाद चल रहा है तो इस वर्ष आपको इसका समुचित समाधान मिल सकता है, सन 2022 में आपको अनावश्यक यात्रायें करनी पड़ सकती है जहां तक हो सके यात्राओं से बचें, विदेश से सम्पर्क बनने या विदेश से लाभ मिलने की सम्भावना है, इस वर्ष आपके खर्चों में थोड़ी अधिकता रहेगी इसलिए आप धन का व्यय थोड़ा सोच समझकर करें,

आपको अपने क्रोध पर थोड़ा नियंत्रण रखना होगा अन्यथा वाद विवाद की स्थितियां उत्त्पन्न हो सकती है, इस वर्ष आपको पैतृक समाप्ति का लाभ मिल सकता है, इस वर्ष आपको मानसिक रूप से मजबूत होने की आवश्यकता है एवं व्यर्थ की चिन्तायें आपको कष्ट दे सकती है, इस वर्ष आपके नाते रिश्तेदार आपसे कुछ दुरी बना सकते हैं |      

 

इस वर्ष को अपने अनुकूल करने व सर्वोन्नती के लिये तीन मुखी, छहमुखी व सातमुखी इन तीनों रुद्राक्षों को धारण करें |

कुम्भ राशिफल ( Kumbh Rashifal )- व्यवसाय :

कुम्भ राशिफल के अनुसार इस वर्ष आपको अपने व्यवसायिक गतिविधियों में विशेष सतर्कता रखनी होगी, यदि आप साझेदारी में व्यापार करते है तो आपको अपने साझेदार के व्यापारिक सुझावों पर ध्यान देना लाभप्रद होगा, इस वर्ष आप अपने व्यवसाय में थोड़ा बहुत जोखिम भी ले सकते है, यदि आपका व्यवसाय का सम्बन्ध विदेश से है तो उसमें मनोकूल लाभ मिलने की सम्भावना है और यदि आप अपने व्यवसाय का विस्तार विदेश तक करना चाहते है तो यह वर्ष आपके लिये बहुत ही लाभप्रद हो सकता है,

आपके मन में व्यवसाय से सम्बंधित नये नये विचार आयेंगे जो की आपके व्यवसाय के हित में प्रासंगिक होंगे, यदि आप नौकरी पेशा हैं तो इस वर्ष आपको अपने कार्यस्थल पर सम्मान मिलेगा व आपके द्वारा किये गए कार्यो की प्रशंसा होगी, इस वर्ष आपके पदोन्नति की काफी सम्भावना है, वर्ष के पूर्वार्द्ध में थोड़ा धैर्य से काम लें क्योंकि कार्य स्थल पर विवाद होने की सम्भावना है किसी भी प्रकार के विवाद से बचें,

अपने व्यवसाय के उन्नति हेतु आप शनि अष्टोत्तरशतनामस्तोत्रम्” का पाठ करें |  

 

कुम्भ राशिफल ( Kumbh Rashifal )- स्वास्थ्य :

कुम्भ राशिफल के अनुसार इस वर्ष रोग भाव पर शनि की दृष्टि के कारण आपको अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना होगा, पैरों एवं जोड़ो से सम्बन्धित रोगों से थोड़ा कष्ट हो सकता है, वाहन चलाने में सावधानी रखें दुर्घटना का योग है,

13 अप्रैल से रोग भाव पर बृहस्पति के शुभ प्रभाव के कारण पहले से चलें आ रहे रोगों में आपको काफी आराम मिलने की सम्भावना है, इस वर्ष आपको अपनी दिनचर्या को सुव्यवस्थित रखना होगा और दवाओं का सेवन समय से करना ही आपके लिए स्वास्थ्यप्रद होगा,

उत्तम स्वास्थ्य के लिये आप “हनुमान बाहुक” का पाठ करें  |        

कुम्भ राशिफल ( Kumbh Rashifal )- दाम्पत्य जीवन एवं पारिवारिक जीवन :

कुम्भ राशिफल के अनुसार पारिवारिक सुख शान्ति की दृष्टि से यह वर्ष अच्छा रहेगा, वर्ष के पूर्वार्द्ध में वैवाहिक दम्पत्तियों के मध्य मधुर सम्बन्ध एवं सामंजस्य बना रहेगा, परिवार में धन संपत्ति को लेकर विवाद हो सकता है, आपके कुशल व्यवहार के कारण आपके नाते रिश्तेदार हर परिस्थिति में आपके साथ रहेंगे,  

राहु के तृतीय भाव पर प्रभाव से भाई बहनों से विवाद हो सकते है, पारिवारिक सदस्यों के साथ सम्बन्ध कभी नरम कभी गरम रह सकता है लेकिन आप अपनी बौद्धिकता से माहौल को सामान्य बना लेंगे,

कुम्भ राशिफल ( Kumbh Rashifal ) – शिक्षा :

कुम्भ राशिफल के अनुसार विद्यार्थियों के लिये यह वर्ष सामान्य रहेगा, वर्ष का पूर्वार्द्ध आपके अनुकूल रहेगा एवं बृहस्पति की दृष्टी पञ्चम भाव पर होने से अल्प प्रयास से ही आपको अपने विषय को समझ सकेंगे, वर्ष के उत्तरार्द्ध में विद्यार्थियों का शिक्षा के प्रति मन थोड़ा उच्चाटित रहेगा,

प्रतियोगी परीक्षाओं में भाग लेने वाले प्रतियोगियों को इधर उधर की बातों में न पड़कर केवल अपने अध्ययन पर ध्यान देना होगा, सही योजना बनाकर परिश्रम पूर्वक अध्ययन करने से ही प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता मिलेगी, इस वर्ष प्रतियोगी परीक्षाओं का परिणाम सामान्य रह सकता है |

शिक्षा के क्षेत्र में मनोकुल सफलता हेतु गणपति अथर्वशीर्ष का प्रतिदिन पाठ करें |

कुम्भ राशिफल ( Kumbh Rashifal ) – उपाय :

कुम्भ राशिफल के अनुसार इस वर्ष यदि आप परिस्थितियों को अपने प्रतिकूल महसूस कर रहे हो तो निम्न उपाय करें जिससे आपको काफी राहत मिलेगी –   

  

  • हनुमानजी की उपासना करें एवं सुन्दरकाण्ड का पाठ करें |
  • कुत्ते को सरसों का तेल लगा कर रोटी खिलाये |
  • यथाशक्ति काले उड़द की दाल का दान करें |

गणपति अथर्वशीर्ष से लाभ व पाठ विधि

रुद्राक्ष धारण करने से लाभ व धारण विधि

नवग्रह शान्ति विधि

यदि आप अपनी कुण्डली के अनुसार अपना भविष्य जानना चाहते है या किसी विशेष प्रश्न का ज्योतिषीय हल चाहते है तो एस्ट्रोरुद्राक्ष के ज्योतिषी से अभी परामर्श लें

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp