तुला राशिफल २०२१

तुला राशिफल २०२१

गोचरीय स्थिति :

वर्ष २०२१ में शनि का गोचर अपने स्व राशि मकर अर्थात आपके चतुर्थ भाव में पूरे वर्ष रहेगा जहाँ से शनि की दृष्टि षष्ठम भाव, दशम भाव एवं लग्न पर होगी |

बृहस्पति  का भी गोचर ६ अप्रैल २०२१ तक मकर राशि में शनि के साथ रहेगा, बृहस्पति ६ अप्रैल २०२१ से कुम्भ राशि अर्थात एकादश भाव में गोचर करेगा, वर्ष के मध्य में २० जून २०२१ से कुल १२० दिन के लिए बृहस्पति वक्री हो जाएगा, इसी वक्रकाल में १४ सितम्बर २०२१ को बृहस्पति वक्री अवस्था में रहते हुए अपनी पूर्ववत राशि मकर में प्रवेश करेगा, यहाँ से १८ अक्टूबर २०२१ को बृहस्पति मार्गी होकर मकर राशि में भ्रमण करता हुआ २१ नवम्बर २०२१ को कुम्भ राशि में पुनः प्रवेश करेगा |

जब बृहस्पति मकर राशि में भ्रमण करेगा तब उसकी दृष्टि अष्टम भाव, दशम भाव एवं द्वादश भाव पर पड़ेगी और जब कुम्भ राशि में भ्रमण करेगा तब उसकी दृष्टि नवम भाव, एकादश भाव एवं लग्न भाव पर पड़ेगी |

राहू पुरे वर्ष वृष राशि अर्थात अष्टम भाव में गोचर करेगा और केतु वृश्चिक राशि अर्थात द्वितीय भाव में गोचर करेगा |            

 

तुला राशि का सामान्य राशिफल :

यह वर्ष आपके लिए मिश्रित प्रभाव लेकर आया है एक ओर शनि देव की वक्र दृष्टि आप पर रहेगी तो दूसरी ओर ब्रहस्पति देव की अति शुभ दृष्टि आप पर रहेगी | इस वर्ष आपको अपने ऊपर ध्यान देने की आवश्यकता होगी अपने विचारों से नकारात्मकता को हटा कर विचारों को परिष्कृत करना होगा | आपको इस वर्ष कर्ज लेने में थोड़ी सावधानी रखनी होगी, आपके शत्रु आपके विरुद्ध षडयंत्र रच सकते है अतः आपको अपने शत्रुओं से भी इस वर्ष सावधान रहना होगा | इस वर्ष आपको पिता कोई सलाह देते है तो उन बातों पर अवश्य ही विचार करना चाहिए और अपने पिता का मान सम्मान बरक़रार रखना चाहिए | घर के बड़े बुजूर्गो की अवहेलना न करें, किसी भी प्रकार का व्यसन से दूर रहें | भूमि भवन से सम्बंधित विवाद का सामना करना पड़ सकता है |

 

तुला राशि का व्यवसाय :

यह वर्ष आपके व्यवसाय के लिए उतार चढ़ाव भरा साबित होगा, इस वर्ष आपको अपने व्यवसायिक गतिविधियों में लापरवाही से बचना होगा | बृहस्पति का शुभ प्रभाव आपके व्यवसाय को नया आयाम प्रदान करेगा | यदि आप व्यापार करते है तो मौसमी व्यापार में सावधानी रखना होगा, व्यापार में उधार देने में सावधानी रखें | यदि साझीदारी में व्यापार हो तो साझेदार पर आखँ बंद कर भरोसा न करें | यदि आप नौकरीपेशा हो तो अपने आसपास की गतिविधियों का ध्यान रखें, आपकी नौकरी का सम्बन्ध धन के लेन देन से हो तो सारा हिसाब किताब सावधानी से रखें अन्यथा अनर्गल परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है | अपने सहकर्मियों से सोच समझ कर ही कोई बात कहें विवाद होने की सम्भावना रहेगी | आपने उच्चाधिकारियों से प्रत्यक्ष विवाद से बचें |      

 

तुला राशि का स्वास्थ्य :

इस वर्ष शनि की दृष्टि रोग भाव पर होने से आपको अपने स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान रखना होगा, पहले से चले आ रहे रोगों पर विशेष ध्यान दें किसी भी प्रकार की लापरवाही का परिणाम घातक हो सकता है | आपको स्नायु रोग, साईटिका या मानसिक रोग का सामना करना पड़ सकता है | वर्ष के मध्य में थोड़ा स्वास्थ्य लाभ हो सकता है |   

 

तुला राशि की शिक्षा :

यह वर्ष विद्यार्थियों के लिए श्रमसाध्य होगा, आपको शिक्षा के क्षेत्र में मनोकूल सफलता प्राप्त करने के लिए अपनी पूर्ण मानसिक क्षमता का प्रयोग करना होगा | प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले प्रतियोगियों को उनके द्वारा किये गए परिश्रम का फल थोड़ा विलम्ब से मिलेगा परन्तु यदि आपने अपनी पूर्ण क्षमता से प्रयास किया है तो आपको परिणाम बहुत ही अच्छा मिलेगा |  

 

तुला राशि के लिए उपाय :

इस वर्ष यदि आप समय आपने प्रतिकूल महसूस कर रहे हो तो निम्न उपाय करें जिससे आपको काफी राहत मिलेगी-  

  • महामृत्युंजय मंत्र या महामृत्युंजय स्तोत्र का पाठ करें |
  • षड मुखीसप्त मुखी रुद्राक्ष धारण करें |
  • माता लक्ष्मी की आराधना करें |
Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on print