त्यौहार व पर्व

त्यौहार व पर्व -

सप्तशती के अमोघ प्रयोग

नवरात्र पर सप्तशती के अमोघ प्रयोग नवरात्र व इस पर्व पर किये जाने वाले सप्तशती के पाठ से सनातन धर्मं के सभी लोग अच्छी तरह से अवगत है शायद ही कोई सनातन धर्मी होगा जो इस नवरात्र पर्व की महत्ता एवं चण्डी पाठ की महत्ता को न जानता हो, माता

विस्तृत विवरण »»»

कलश स्थापना मुहूर्त एवं विधि

कलश स्थापना – मुहूर्त विधि विशेष तथ्य चैत्र नवरात्र 2021 सनातन जीवन पद्दति में नववर्ष का प्रारंभ चैत्र शुक्ल पक्ष प्रतिपदा से होता है, नवसंवत्सर का शुभारम्भ माता की आराधना से प्रारम्भ करते हैं, इस दो ऋतुओं के संधिकाल में प्रकृति नवपल्लव धारण करती हैं,  नवरात्र पर्व में कलश स्थापना से

विस्तृत विवरण »»»

होलिकादहन के कृत्य, मुहूर्त व 5 अमोघ लघु प्रयोग

होलिकादहन के कृत्य, मुहूर्त व 5 अमोघ लघु प्रयोग विषय सूची होली का महत्व- होली का पर्व दो ऋतुओं के मध्य में मनाया जाता है इसका भारतीय परिपेक्ष्य में सामाजिक, सांस्कृतिक और आध्यात्मिक महत्व है, होली का पर्व सामाजिक एकता व सद्भावना का प्रतीक भी है | होलिकादहन की रात्रि

विस्तृत विवरण »»»

होलाष्टक

होलाष्टक होलाष्टक शब्द की उत्पत्ति दो शब्दों के मेल से हुई है पहला “होली” और “दूसरा अष्टक अर्थात आठ”, होलीका दहन से लेकर आठ दिन पूर्व ( फाल्गुन शुक्ल पक्ष अष्टमी से फाल्गुन शुक्ल पक्ष पूर्णिमा तक ) के समय को होलाष्टक काल कहते है, इस वर्ष होलाष्टक की अवधि

विस्तृत विवरण »»»

गणपति अथर्वशीर्ष की पाठ विधि एवं लाभ- ganpati atharvashirsha Worship Recitation Method and Benefits

विघ्नहर्ता भगवान गणपति के अथर्वशीर्ष को सभी अथर्वशीर्ष का शिरोमणि माना जाता है, हमें गणपति अथर्वशीर्ष की अद्भुत शक्तियों का लाभ अपने जीवन में अवश्य लेना चाहिए…

विस्तृत विवरण »»»
Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on print